बलरामपुर अस्पताल के तानाशाह कार्यवाहक निदेशक ने जमींदोज कराया रैन बसेरा  

मरीज और तीमारदार से लेकर अस्पताल का स्टाफ परेशान सरकार की छवि हो रही खराब

बलरामपुर अस्पताल के तानाशाह कार्यवाहक निदेशक ने जमींदोज कराया रैन बसेरा  


 
लखनऊ । बलरामपुर चिकित्सालय को प्रदेश सरकार के सबसे बडे सरकारी अस्पताल होने का गौरव प्राप्त है और यहां लगभग  650 बिस्तर है । मरीजो के अनुपात मे यहां पर उनके तीमारदारों की भी संख्या काफी अधिक रहती है। इसी की आवश्यकता के लिए पूर्व के निदेशक ने रिश्तेदारो की सुविधा के लिए बलरामपुर चिकित्सालय के कचहरी की ओर वाले गेट के पास एक सुविधाजनक रैनबसेरे का निर्माण कराया था जिसमे भारी धनराशि खर्च हुई थी।यह रैन बसेरा तमाम सुविधाओ से व्यवस्थित था। यही नही  इसमे  न्यूनतम शुल्क पर खाना बनाने वाली गैस की आपूर्ति भी एक गैस कम्पनी से करा दी थी।लेकिन वर्तमान कार्यवाहक निदेशक के तानाशाही रवैये के चलते
 इस रैनबसेरे की ओर कोई ध्यान नही दिया गया।मरीजो के तीमारदारों द्वारा इसी रैन बसेरे में किसी तरह अपनी राते गुजारी जाती थी लेकिन इस बरसात के मौसम में कार्यवाहक निदेशक द्वारा रैन बसेरे को अचानक तोड़वा देने से तीमारदारों द्वारा भारी मुसीबत झेली जा रही है इस बरसात में उन्हें सिर छुपाने के लिए जगह नही है।लोगो का मानना है कि अस्पताल के संवेदनहीन निदेशक ने इस बरसात के मौसम मे भी तीमारदारो की तकलीफ का कोई ख्याल न करके रैनबसेरे को ही तुड़वा दिया।जबकि इसके लिए उन्हें  वैकल्पिक व्यवस्था करना चाहिए था लेकिन उन्होंने यह नही किया।सरकारी धन का नुकसान करने वाले अस्पताल के निदेशक के विरुद्ध जागरूक लोगो ने कड़ी कार्यवाही की मांग की है।लोगो का मानना है कि अस्पताल में मनमानी का साम्राज्य कायम है लेकिन कोई देखने सुनने वाला नही है।


Registration Login
Sign in with social account
or
Lost your Password?
Registration Login
Sign in with social account
or
A password will be send on your post
Registration Login
Registration
Please Wait While Processing .....
Please Wait While Processing .....