B'day Special : चलती ट्रेन में गाने गा कर आभास बने थे किशोर कुमार

तीन नायकों को बनाया था महानायक

B'day Special : चलती ट्रेन में गाने गा कर आभास बने थे किशोर कुमार

लखनऊ। आम भारतीय जनमानस के दिलों दिमाग में घर बना चुके हिन्दी गानों के आधार की बात करे तो मोहम्मद रफ़ी तथा मुकेश के बाद जिस गायकी विधा को सबसे ज्यादा जाना-पहचाना जाता है वो नाम है किशोर कुमार। अल्हड़ अंदाज और विनोदी स्वभाव के किशोर कुमार ने जहां मस्तमौला फिल्मी नगमों को सुर दिए हैं वहीं हार्ट ब्रेकिंग सांग गाने में भी वे पूरी महारत रखते है। उनकी आवाज़ के जादू से देव आनंद सदाबहार हीरो कहलाए। राजेश खन्ना को सुपर सितारा कहा जाने लगा और अमिताभ बच्चन महानायक हो गए। भाई अशोक कुमार की चाहत थी कि किशोर कुमार नायक के रूप में हिन्दी फ़िल्मों के हीरो के रूप में जाने जाएं, लेकिन किशोर कुमार को अदाकारी की बजाय पा‌र्श्व गायक बनने की चाहत थी।
 

स्टेज-शो में हमेशा किशोर दा हमेशा हाथ जोड़कर सबसे पहले संबोधन करते थे- 'मेरे दादा-दादियों।' मेरे नाना-नानियों। मेरे भाई-बहनों, तुम सबको खंडवे वाले किशोर कुमार का राम-राम। हिन्दी सिनेमा में इलैक्ट्रिक संगीत लाने का श्रेय किशोर कुमार को जाता है। उनकी बनाई हुडलिंग का आज भी कोई जवाब नहीं है।


किशोर कुमार का असली नाम आभास कुमार गांगुली था। किशोर कुमार का जन्म आज के दिन 4 अगस्त, 1929 ई. को खंडवा, मध्य प्रदेश में एक बंगाली परिवार में हुआ था। भाईयों में सबसे छोटे किशोर कुमार बचपन से ही एक संगीतकार बनना चाहते थे। किशोर कुमार ने बारह साल की उम्र तक गीत-संगीत में महारत हासिल कर ली थी। किशोर कुमार रेडियो पर गाने सुनकर उनकी धुन पर थिरकते थे और फ़िल्मी गानों की किताब जमा कर उन्हें कंठस्थ करके गाते थे। किशोर कुमार का बचपन तो खंडवा में बीता, लेकिन जब वे किशोर हुए तो इंदौर के क्रिश्चियन कॉलेज में पढ़ने आए। हर सोमवार सुबह खंडवा से मीटरगेज की छुक-छुक रेलगाड़ी में इंदौर आते और शनिवार शाम लौट जाते। सफर में वे हर स्टेशन पर डिब्बा बदल लेते और मुसाफ़िरों को नए-नए गाने सुनाकर मनोरंजन करते थे।
 

अपने करियर के दौरान किशोर कुमार ने क़रीब 574 से अधिक गाने गाए। किशोर कुमार ने हिन्दी के साथ ही तमिल, मराठी, असमी, गुजराती, कन्नड़, भोजपुरी, मलयालम और उड़िया फ़िल्मों के लिए भी गीत गाए।
 

भले ही किशोर दा आज हमारे बीच नहीं हैं पर घुंघरू की तरह उनके सुरमई नगमें हमारे कानों में बजते रहेंगे और सदा कहते रहेंगे पल पल दिल के पास तुम रहते हो......


Registration Login
Sign in with social account
or
Lost your Password?
Registration Login
Sign in with social account
or
A password will be send on your post
Registration Login
Registration
Please Wait While Processing .....
Please Wait While Processing .....