ट्रंप बोले, भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव में आई कमी, चाहें तो मध्यस्थता को तैयार

वहां भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुलाकात में उन्होंने कहा था कि दोनों देशों के बीच किसी तीसरे देश के दखल की जरूरत नहीं है।


 पिछले महीने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने यानी वहां से आर्टिकल 370 हटाने के बाद से ही भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में और तल्खी बढ़ गई है। पाकिस्तान को भारत का यह कदम बिल्कुल नागवार गुजरा और वह कई तरह से इसका विरोध जता चुका है। उसने कई देशों के सामने इस समस्या को रखा, लेकिन चीन के अलावा किसी ने भी खुलकर उसका समर्थन नहीं किया।

हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जब-तब दोनों पड़ोसी देशों के बीच मध्यस्थता करने की बात कहते रहते हैं। एक बार फिर उन्होंने यही राग अलापा है। ट्रंप का कहना है कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव में कमी आई है। अगर ये दोनों देश चाहें तो हम मदद करने के लिए तैयार हैं। ट्रंप ने करीब 15 दिन पहले जी-7 बैठक में भी इस मुद्दे को उठाया था। वहां भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुलाकात में उन्होंने कहा था कि दोनों देशों के बीच किसी तीसरे देश के दखल की जरूरत नहीं है।

ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस में प्रेस से बात करते हुए कहा कि करीब दो हफ्ते पहले भारत और पाकिस्तान के बीच जिस स्तर का तनाव था उसमें कमी आई है। जब उनसे पूछा गया कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव की स्थिति में अमेरिका की भूमिका को किस तरह देखते हैं तो उन्होंने जवाब दिया कि दोनों देशों से अमेरिका का बेहतर रिश्ता है।

अगर वे चाहें तो मदद कर सकते हैं। भारत और पाकिस्तान के सामने यह प्रस्ताव है। अमेरिकी प्रस्ताव को मानना या न मानना दोनों देशों पर निर्भर करता है। आपको बता दें कि भारत मध्यस्थता को लेकर अपना रुख साफ कर चुका है। उसका कहना है कि मध्यस्थता का कोई सवाल ही नहीं है। संसद में विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा था कि यह ऐतिहासिक सच है कि कश्मीर, भारत का आंतरिक मामला है और इसमें किसी तीसरे देश की दखल को स्वीकार नहीं किया जा सकता है।


Registration Login
Sign in with social account
or
Lost your Password?
Registration Login
Sign in with social account
or
A password will be send on your post
Registration Login
Registration
Please Wait While Processing .....
Please Wait While Processing .....