और बलरामपुर  अस्पताल के कार्यवाहक निदेशक डा राजीव लोचन के मंसूबों पर ॅिफरा पानी

स्वास्थ्य  विभाग ने जारी की  आगामी 31  अगस्त को सेवानिव्रत्त  होने वाले 20 चिकित्सकों की सूची


लखनऊ। प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने आज प्रान्तीय सेवा संवर्ग के आगामी 31 अगस्त 2019 को सेवानिव्रत्त होने वाले 20 चिकित्सकों की सूची जारी कर सभी से अपने वरिष्ठतम अधिकारी को चार्ज सौंपने का निर्देश जारी कर दिया है और इसी के साथ जारी की गयी सूची में एकमात्र तीसरे नम्बर पर अंकित डा राजीव लोचन की बीते कई महीनों से सरकार में प्रदेश के मुखिया से लेकर शासन तक घुडदौड लगाने की कोशिश फेल साबित हो गयी। हालांकि कई वरिष्ठों को दरकिनार कर कार्यवाहक निदेशक के रूप में तानाशाही से बलरामपुर अस्पताल की कमान संभालते या बिगाडते दो वर्षं बीत जाने के बाद भी उनकी प्रशासनिक पद पर बने रहने की लोलुपता क्षीण होने के बजाय बलवती होगी गयी और उन्होंने सरकार के सभी पटलों पर अपने सेवा विस्तार की अर्जी देने में तनिक भी देरी नहीं  की लेकिन बीते वर्षों में अस्पताल को अपनी निजी सम्पत्ति मानकर अपने बेतुके बे सिर पैर के निर्णय थोपने अस्पताल की चिकित्सा एवं अन्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के बजाय उनके प्रति लापरवाही के कारण निचले स्तर पर पहुंचा देने प्रशासनिक अधिकारों का बेजा इस्तेमाल कर निजी हित साधने निदेशक पद की गरिमा के इतर काम करने और गैरवाजिब प्रशासनिक दबाव बनाकर आर्थिक शोषण करने आदि तमाम तरह के क्रत्यों के चलते शासन  और सरकार ने कार्यवाहक निदेशक डा राजीव लोचन  को तय  तारीख आगामी 31 अगस्त को सेवानिव्रत्त करने  पर अपनी मुहर लगा दी हैं।,,,?
हालांकि डा लोचन अभी  भी अपने मातहत चमचोंसे डींग मारते नजर आ रहे हैं कि उनका कार्यकाल अवश्य बढेगा जिस प्रकार बसपा सरकार के दौरान सरकार में सीधी पकड रखने वाले राजधानी के ही डा राम मनोहर लोहिया संयुक्त चिकित्सालय के निदेशक डा आरएस दुबे का कार्यकाल अंतिम चरणों में बढा दिया गया था। लेकिन डा राजीव लोचन को इसके साथ यह भी याद रखना चाहिए कि उनकी सेवाओं को आज भी मरीज याद करते  हैं  और अस्पताल को उन्होंने  जिस उंचाईयों तक पहंूचाया था वो आज तक कोई दूसरा नही कर  पाया उनके  कार्यकाल  के दौरान  ही  लोहिया  अस्पताल  एनएबीएच  सर्टिफिकेट  प्राप्त  करने वाला देश का पहला सरकारी अस्पताल बना था  और डा आरएस दुबे  एक  बेहद कुशल  सर्जन  के  अलावा एक बेहतर  इंसान  बहुत सरल स्वभाव  एवं गरीबों की मदद को हमेशा तैयार रहने वाले कुशल प्रशासनक और धनी व्यक्तित्व के मालिक थे। लेकिन अब भी अपने सेवा विस्तार को लेकर मुतमईन  डा राजीव लोचनं की प्रशासनिक पद पर बने रहने की लोलुपता तभी सफल साबित हो सकती है कि जब कोई कुदरत का करिश्मा हो जाये फिलहाल जब मात्र 3 दिन  का समय ही शेष है तो  ़इस समय केवल यही कहा जा सकता है कि नाउ भाई कितने बाल  तो  जवाब जो हैं बस सामने ही आयेंगे।
   
            

            


Registration Login
Sign in with social account
or
Lost your Password?
Registration Login
Sign in with social account
or
A password will be send on your post
Registration Login
Registration
Please Wait While Processing .....
Please Wait While Processing .....