मोदी योगी के हाशिए पर छात्र राजनीति

युवा भारत को अराजनैतिक करने की कोशिश

मोदी योगी के हाशिए पर छात्र राजनीति

लखनऊ। राजधानी के लखनऊ विश्वविद्यालय में कुलपति तथा व्यवस्था के प्रति नाराजगी थमती नजर नहीं आ रही हैं और असंतुष्ट छात्रों का बडा समूह लगातार अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहा है लेकिन भाजपा सरकारें इनको सिरे से नकारते हुए दमनकारी रवैया अपना रही है। राज्यपाल नाईक के मराठा कार्यक्रम में एलयू जाने के समय दिखाए गए काले झण्डे धीरे धीरे सरकार के लिए काल बनते जा रहे हैं। जिस युवा भारत की बात करते हुए भाजपा सरकारों ने सत्ता हासिल की थी वहीं मोदी योगी अब छात्रसंघ की राजनीति को हाशिए पर लाने में कोई कोर कसर बाकी नहीं रख रहे हैं। मंगलवार दोपहर लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्रों ने प्रेस क्लब में वार्ता का आयोजन कर इस बात का संकेत दे दिया है कि 2019 की राहें आसान नहीं है।

लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र संघर्ष मोर्चा के बैनर तले पत्रकार वार्ता करते हुए गौरव त्रिपाठी ने ने बताया कि विश्वविद्यालय की तत्कालीन परिस्थितियों को देखते हुए एक जनमत संग्रह करवाया गया था जिसमें 3447 लोगों ने वोट दिया था जिसमें से 2944 लोगों ने हमारी मांगो का समर्थन किया है। 12 अगस्त को अमीनाबाद के गंगा प्रसाद मेमोरियल हॉल में भाजपा को छोड़ कर सभी राजनैतिक दलों की मीटिंग आहुत करने की बात करते हुए महेन्द्र यादव ने कहा कि हम छात्रों को एलयू से बाहर का ना केवल रास्ता दिखाया गया बल्कि हमारे खिलाफ अपराधिक मामलें दर्ज करवाएं गए जो कि यूजीसी की गाइडलाइंस के भी विरुद्ध है पर केन्द्र तथा राज्य मौन धारण करके बैठा है।


Registration Login
Sign in with social account
or
Lost your Password?
Registration Login
Sign in with social account
or
A password will be send on your post
Registration Login
Registration
Please Wait While Processing .....
Please Wait While Processing .....