लोकमत सरोकार

लोकमत हिंदी

Punyatithi : प्रसिद्ध बौद्ध भिक्षु, लेखक तथा पालि भाषा के मूर्धन्य विद्वान् थे भदन्त आनन्द कौसल्यायन

Jun 22, 2018

भदन्त आनन्द कौसल्यायन का जन्म 5 जनवरी, 1905 को अविभाजित पंजाब के अम्बाला ज़िले में 'सोहना' नामक गाँव में हुआ था।

लोकमत हिंदी

Punyatithi : भारत की सोंधी मिट्टी की देन है कवि केदारनाथ की जनवादी लेखनी

Jun 22, 2018

अपनी कविता से जन-गण-मन को मानवता का स्वाद चखाने वाले अमर कवि केदारनाथ अग्रवाल का जन्म 1 अप्रैल, 1911 को उत्तर प्रदेश के बाँदा नगर के कमासिन गाँव में एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था।

लोकमत हिंदी

Punyatithi : भारत के प्रसिद्ध कवियों में से एक थे जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

Jun 22, 2018

उन्होंने खड़ीबोली के युग में जीवित व्यक्ति की तरह हृदय के प्रत्येक स्पंदन को महसूस करने वाली ब्रजभाषा का आदर्श खड़ा किया, जिसके हर शब्द की अपनी गति और लय है।

लोकमत हिंदी

भारत के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी, लेखक और गाँधीवादी चिंतक थे शंकर त्रिम्बक धर्माधिकारी

Jun 18, 2018

दादा धर्माधिकारी हिन्दी, मराठी, गुजराती, बंगला, संस्कृत और अंग्रेज़ी भाषाओ के अच्छे ज्ञाता थे।

लोकमत हिंदी

BDay Spcl : भारत की प्रसिद्ध शास्त्रीय नृत्यांगना थीं मृणालिनी साराभाई

May 11, 2018

\'इंटरनेशनल डांस काउंसिल पेरिस\' की ओर से उन्हें एग्जीक्यूटिव कमेटी के लिए भी नामित किया गया था। प्रसिद्ध \'दर्पणा एकेडमी\' की स्थापना मृणालिनी साराभाई ने की थी।

लोकमत हिंदी

Punyatithi : भारत में सच्चे प्रजातंत्रवादी और समाज सुधारक के रूप में जाना जाता था छत्रपति साहू महाराज को

May 10, 2018

साहू महाराज ज्योतिबा फुले से प्रभावित थे और लंबे समय तक \'सत्य शोधक समाज\', फुले द्वारा गठित संस्था के संरक्षण भी रहे।

लोकमत हिंदी

आज के दिन त्र्यम्बकेश्वर में जन्में थे भारतीय सिनेमा के पितामह  

Apr 30, 2018

दादा साहेब फाल्के पुरस्कार भारत सरकार की ओर से दिया जाने वाला एक वार्षिक पुरस्कार है, जो किसी व्यक्ति विशेष को भारतीय सिनेमा में उसके आजीवन योगदान के लिए दिया जाता है।

लोकमत हिंदी

Punyatithi : भारत के महानतम गायकों व संगीतज्ञों में की जाती है उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ की गणना

Apr 25, 2018

दिल को छू जाने वाली आवाज़ के मालिक उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ ने नवेली शैली के ज़रिए ठुमरी को नई आब और ताब दी।

लोकमत हिंदी

Bday Spcl : हिन्दी भाषा और साहित्य के उन्नयन, संवर्धन और संरक्षण के लिए समर्पित थे चन्द्रबली पाण्डेय

Apr 25, 2018

उनके गम्भीर चिंतन, प्रखर आलोचकीय दृष्टि और आचार्यत्व ने हिंदी और हिंदी साहित्य को अपने ही ढंग से समृद्ध किया।